Posted in Life

Hindi Poetry Attempt 1

आरज़ू थी पर हिमत से मजबूर थे,

अल्फ़ाज़ मुह की देहलीज पर डेरा लगा कर बैठे थे|

दिल उकसा बी रहा था और रॉक भी रहा था,

कुछ अजीब सा सिल्सला पैदा हो रहा था|

न इधर से चूँ, न उधर से चूँ,

थी तो बस ख़ामोशी और दिल की बढ़ती धडकने|

दिल बेचैनी से मजबूर था,

पूछना ज़रूर था|

तो हमने भी एक कोशिश कर ही ली,

और आपने भी हमारे दिल की बात समझ ही ली||

-Palak Arora

Advertisements

Author:

Mountains coached me to write.

2 thoughts on “Hindi Poetry Attempt 1

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s